देश-विदेशसमाचार

दीजिये बधाई,लोकगायक राजेंद्र ढैला हुए सम्मानित,उत्तराखंड सांस्कृतिक समिति के द्वारा मिला विशेष सम्मान !!

हल्द्वानी/लमगड़ा

उत्तराखंड सांस्कृतिक समिति की ओर से राज्य स्तरीय सांस्कृतिक परिचर्चा भेट घाट का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में उत्तराखंड की लोक संस्कृति एवं समाज में गीतकारों की भूमिका और गीत लेखन के क्षेत्र में भविष्य की संभावनाएं विषय पर प्रदेश के कई गीतकारों, गायकों और संगीतकारों ने प्रतिभाग लिया। इस मौके पर उत्तराखंड की बोली-भाषा में गीत लेखन के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने वाले गीतकारों को सम्मानित भी किया गया। जिसमें युवा गीतकार के लिए लेखक और गायक राजेंद्र ढैला को सम्मानित किया गया। आगे पढ़िए

बता दें कि राजेंद्र ढैला का पैतृक गांव अल्मोड़ा जनपद के लमगड़ा में है वे लंबे समय से पहाड़ की लोक संस्कृति को संवारने में अपनी घुघुती जागर टीम के जरिये काम कर रहे है। वह लगातार पहाड़ की लोक संस्कृति को बचाने के लिए गीत ओर कविताओं के माध्यम से लोगों को जागरूक कर रहे है। आज के दौर में फूल्हड़ गीतों को छोड़कर उन्होंने पहाड़ की संस्कृति और लोकलाओं, रीति-रिवाजों पर गीत लिखे जिन्हें लोगों ने खूब पसंद भी किया। जिसके लिए उत्तराखंड सांस्कृतिक समिति की ओर से उन्हें युवा गीतकार का सम्माान दिया गया।
राजेंद्र ढैला द्वारा लिखे चर्चित गीतों में मुख्य रूप से पहाड़ ल्या रयूं, माया ल्हैगे भाबरा, मैं एक पहाड़ी छूं, ईजू प्यारी ईजा, ऐगे ऋतु रैणा भिटौली गीत, घीं संगरांत, आई दिवाली, नव संवत्सर, हर घर तिरंगा, भू कानून, विकास देखीना, रंग बिरंगी चहा, देवभूमि को बेटा, तुम लौटी नि आया आदि गीत शामिल है। उनके इन गीतों में एक खास संदेश देकर लोगों तक पहुंचाने का काम किया। उनका फेसबुक और यूट्यूब पर घुघुती जागर के नाम से चैनल और पेज है।

Hills Headline

उत्तराखंड का लोकप्रिय न्यूज पोर्टल हिल्स हैडलाइन का प्रयास है कि देवभूमि उत्तराखंड के कौने – कौने की खबरों के साथ-साथ राष्ट्रीय , अंतराष्ट्रीय खबरों को निष्पक्षता व सत्यता के साथ आप तक पहुंचाएं और पहुंचा भी रहे हैं जिसके परिणाम स्वरूप आज हिल्स हैडलाइन उत्तराखंड का लोकप्रिय न्यूज पोर्टल बनने जा रहा है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button