देश-विदेश

PFI पर केंद्र सरकार का हंटर , 5 साल के लिए लगाया गया प्रतिबंध हुवा पक्का ईलाज!

मोदी सरकार PFI पर कहर बनकर टूटी है ,Zee news
के रिपोर्ट के मुताबिक , भारत के छह राज्यों में मंगलवार को PFI के विभिन्न ठिकानों पर की गई कार्रवाई के दौरान उसके लगभग 90 से अधिक कार्यकर्ताओं को हिरासत में लिया गया.
केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई), उसके सहयोगियों और तमाम मोर्चों को गैरकानूनी घोषित कर दिया है. केंद्र ने इन सभी पर 5 साल का बैन लगाया है. केंद्र सरकार ने इसे आधिकारिक गजट में भी प्रकाशित किया है. पीएफआई को बैन करने की तैयारी पहले ही शुरू हो गई थी, जिसके बाद गृह मंत्रालय ने यह आदेश जारी कर दिया. मंगलवार को भी पीएफआई पर केंद्र सरकार का एक्शन जारी रहा. देश के छह राज्यों में पीएफआई के विभिन्न ठिकानों पर की गई कार्रवाई में उसके 90 से अधिक कार्यकर्ताओं को हिरासत में लिया गया है.
2006 में हुई थी स्थापना
पीएफआई की स्थापना 2006 में केरल में की गई थी और वह भारत में हाशिये पर पड़े वर्गों के सशक्तिकरण के लिए नव सामाजिक आंदोलन चलाने का दावा करता है. हालांकि, सुरक्षा एजेंसियों का दावा है कि पीएफआई कट्टर इस्लाम का प्रचार कर रहा है. इस संगठन की स्थापना केरल में की गई थी और इसका मुख्यालय दिल्ली में है.
5 दिन पहले भी हुआ था तगड़ा एक्शन
कट्टर इस्लाम का प्रसार करने के आरोपों का सामना कर रहे पीएफआई के खिलाफ इसी तरह की कार्रवाई पांच दिन पहले भी की गई थी. छापेमारी की कार्रवाई कर्नाटक, गुजरात, दिल्ली, महाराष्ट्र, असम और मध्य प्रदेश की राज्य पुलिस ने की. NIA की अगुआई में विभिन्न एजेंसियों की टीमों ने 22 सितंबर को देश में आतंकवादी गतिविधियों का समर्थन करने के आरोप में पीएफआई के खिलाफ 15 राज्यों में छापेमारी की थी और उसके 106 नेताओं और कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया था. एनआईए, पीएफआई से जुड़े 19 मामलों की जांच कर रही है.
कई राज्यों में ताबड़तोड़ एक्शन
संबंधित राज्यों की पुलिस ने अपने-अपने इलाकों में मंगलवार को छापेमारी की. अधिकारियों ने बताया कि छापेमारी के दौरान पुलिस ने असम में 25, महाराष्ट्र में चार और दिल्ली में 30 लोगों को हिरासत में लिया है. मध्यप्रदेश में 21, गुजरात में 10 लोगों को और कर्नाटक में भी कई लोगों को हिरासत में लिया गया है. असम के अधिकारियों ने बताया कि विभिन्न जिलों से पीएफआई के 25 कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया गया.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button