उत्तराखंडदेश-विदेशसमाचार

अल्मोड़ा:- अल्मोड़ा का लाल मेजर हरीश मेलकानी का जबलपुर में निधन हुआ, क्षेत्र में शोक की लहर!

अल्मोड़ा:- अल्मोड़ा का लाल मेजर हरीश मेलकानी के निधन हुआ, क्षेत्र में शोक की लहर!

Hills Headline!!

अल्मोड़ा, उत्तराखंड!!

Major’s martyrdom:अल्मोड़ा जिले के धौलादेवी ब्लॉक स्थित गुणादित्य के स्वाड़ी तोक निवासी 42 वर्षीय मेजर हरीश चंद्र मेलकानी पुत्र रामदत्त मेलकानी एमपी के जबलपुर में ईएमआई रिकॉर्ड में तैनात थे। परिजनों के मुताबिक बीते शनिवार शाम वह अपने 12 वर्षीय पुत्र वैभव के साथ स्वमिंग पुल में अभ्यास कर रहे थे। इसी दौरान उनकी मौत हो गई। सूचना मिलते ही सेना के जवानों और अधिकारियों ने उन्हें स्वीमिंग पूल से निकालकर अस्पताल पहुंचाया, जहां चिकित्सकों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।
चंद लम्हों में घट गई अनहोनी
वरिष्ठ भाजपा नेता सुभाष पांडे ने बताया कि अन्य दिनों में हरीश अपने पुत्र वैभव को स्वीमिंग के लिए पत्नी रेणू सहित ले जाते थे। लेकिन शनिवार को हरीश अपने पुत्र वैभव के साथ ही स्वीमिंग के लिए गए थे। स्वीमिंग के दौरान वह काफी देर तक पानी से बाहर नहीं निकले तो उनके पुत्र ने शोर मचाकर अन्य लोगों को मौके पर बुलाया, तब तक उनकी मौत हो चुकी थी।

जागेश्वर श्मशान में हुआ अंतिम संस्कार
मेजर हरीश मेलकानी का अंतिम संस्कार जागेश्वर धाम के श्मशानघाट में पूरे सैन्य सम्मान के साथ किया गया। 19 कुमाऊं, 22 राजपूत और ईएमआई रेजिमेंट के जवानों ने पुष्प चक्र अर्पित कर उन्हें सलामी दी। इस दौरान विधायक मोहन सिंह मेहरा, एसडीएम एनएस नगन्याल, वरिष्ठ भाजपा नेता सुभाष पांडे, ब्लॉक प्रमुख प्रतिनिधि नरेंद्र बिष्ट, भाजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष विपिन भट्ट सहित तमाम लोगों ने उन्हें पुष्प चक्र अर्पित कर भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की।

बेहद होनहार थे हरीश
स्थानीय ग्रामीणों के मुताबिक हरीश मेलकानी बचपन से ही बेहद होनहार थे। करीब 22 साल पहले वह सेना में भर्ती हुए थे। कुछ साल पहले ही वह मेजर बने थे। इससे पूर्व में कुमाऊं रेजीमेंट भी तैनात रह चुके हैं। क्षेत्र के होनहार शख्स और सेना के मेजर हरीश के निधन से पूरे इलाके में शोक की लहर छाई हुई है।

Hills Headline

उत्तराखंड का लोकप्रिय न्यूज पोर्टल हिल्स हैडलाइन का प्रयास है कि देवभूमि उत्तराखंड के कौने – कौने की खबरों के साथ-साथ राष्ट्रीय , अंतराष्ट्रीय खबरों को निष्पक्षता व सत्यता के साथ आप तक पहुंचाएं और पहुंचा भी रहे हैं जिसके परिणाम स्वरूप आज हिल्स हैडलाइन उत्तराखंड का लोकप्रिय न्यूज पोर्टल बनने जा रहा है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button