उत्तराखंडसमाचार

स्कूल में शिक्षक न होने से बाधित हो रही पढ़ाई शिक्षकों के अभाव से छात्रों का भविष्य अंधकारमय

भुवन जोशी

नैनीताल जिले के दुरस्थ क्षेत्र ओखलकाण्डा के ग्राम पंचायत पंश्या के राजकीय इण्टर कालेज पंश्या की हालात बेहद खराब है स्कूल मात्र 11 शिक्षकों के सहारे चल रहा है जिस कारण से छात्र छात्राओं को परेशानियों का सामना करना पढ़ रहा है जिससे पढ़ाई बाधित हो रही है
जहां राजकीय इंटर कॉलेज पंश्या मे 6से 12 तक कि कक्षाएं संचालित है जिसमें छात्र-छात्राओं की संख्या लगभग 195 से अधिक है और शिक्षकों की संख्या 11बताई गई है

सबसे बड़ी बात तो यह है राजकीय इंटर कॉलेज पंश्या मे स्वयं प्रधानाचार्य तक नहीं है जिससे स्कूल के छात्र छात्राओं को कई परेशानियों का सामना करना पड़ता है
आपको यह भी बता दें कि जी डी सी पतलोट के कोषाध्यक्ष दीपक चंद्र कुड़ाई ने बताया कि बीते दिनों मैं माननीय शिक्षा मंत्री श्री धन सिंह रावत जी को एक ज्ञापन दे चुका हूं जिसमें छात्र छात्राओं के भविष्य को देखते हुए शिक्षकों की मांग की थी जिसमें अभी तक कोई सुनवाई नहीं की गई
जिसमें रिक्त पदों का विवरण दिया गया था जिसमें प्रवक्ता, राजनीति विज्ञान, गणित, रसायन विज्ञान, जीव विज्ञान, अंग्रेजी और प्रधानाचार्य, का भी वर्णन किया गया था जिसमें अभी तक कोई सुनवाई नहीं हुई है जिससे क्षेत्रीय जनता में आक्रोश बना हुआ है
दीपक चन्द्र कुड़ाई कोषाध्यक्ष का कहना है कि राजकीय इंटर कॉलेज पंश्या में लगभग 7 से 8 ग्राम पंचायत के छात्र-छात्राएं अध्ययन के लिए आते हैं पंश्या,को़ण्डा़र,देवली, पोखरी मल्ली, पोखरी मल्ली, डा़लकन्डाया, भद्रकोट , आदि ग्राम पंचायतों के छात्र छात्राएं अध्ययन करने के लिए आते हैं
कोषाध्यक्ष दीपक चंद्र कुड़ाई ने बताया कि शिक्षकों के अभाव के कारण हमारे क्षेत्र का पलायन भी होने लगा है जिससे हमारे पहाड़ों का पलायन भी रोका जा सकता है मैं जिला प्रशासन से निवेदन करता हूं कि छात्र-छात्राओं के भविष्य को ध्यान में रखते हुए शिक्षक तैनात करने की कृपा कीजिएगा
रिक्त पदों का विवरण
प्रवक्ता
1.राजनीति विज्ञान
2.गणित
3.रसायन विज्ञान
4.जीव विज्ञान
5.अंग्रेजी
6.और प्रधानाचार्य

Hills Headline

उत्तराखंड का लोकप्रिय न्यूज पोर्टल हिल्स हैडलाइन का प्रयास है कि देवभूमि उत्तराखंड के कौने – कौने की खबरों के साथ-साथ राष्ट्रीय , अंतराष्ट्रीय खबरों को निष्पक्षता व सत्यता के साथ आप तक पहुंचाएं और पहुंचा भी रहे हैं जिसके परिणाम स्वरूप आज हिल्स हैडलाइन उत्तराखंड का लोकप्रिय न्यूज पोर्टल बनने जा रहा है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button